Crores of rupees Engineer of RES Laxmi Narayan Tiwari

करोड़ों का आसामी निकला आरईएस का इंजीनियर लक्ष्मी नारायण तिवारी

कटनी/जबलपुर। आय से अधिक सम्पति  के मामले में जहां शुक्रवार अलसुबह जबलपुर लोकायुक्त  की टीम ने कटनी स्थित दुबे कॉलोनी स्थित निवास पर आरईएस के उपयंत्री के घर छापेमार कार्रवाई की तो वहीं दोपहर में जबलपुर नगर निगम में लोकायुक्त  की टीम ने एक टैक्स  कलेक्टर  को दो हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों दबोचा है। दोनों ही मामलों में लोकायुक्त की ओर से कार्रवाई की गई है। दो करोड़ से अधिक की आय का चला पता: लोकायुक्त उप पुलिस अधीक्षक (डीएसपी) एचपी चौधरी ने बताया कि लोकायुक्त के दस्ते ने बड़वारा में पदस्थ आरईएस के उपयंत्री लक्ष्मी नारायण तिवारी के दुबे कॉलोनी स्थित घर व उसके कार्यालय में कार्रवाई की। छापेमार कार्रवाई के दौरान उपयंत्री तिवारी के घर से आधा दर्जन बैंक खातों के दस्तावेज मिले हैं। इसके अलावा कटनी स्थित तीन मंजिला आलीशान मकान, जबलपुर के कटंगा में एक मकान तथा सतना स्थित गांव में मकान है। गांव में पांच एकड़ कृषि भूमि तथा कटनी में तीन प्लॉट हैं। श्री चौधरी ने बताया कि लोकायुत टीम को उपयंत्री के पास से दो करोड़ रुपए से अधिक आय का पता चला है। लोकायुत की टीम बैंक खातों, निवेश के दस्तावेज तथा जेवरातों के संबंध में जांच कर रही है। लोकायुत को कार्रवाई के दौरान घर में सिर्फ दस हजार रुपए नगद मिले। पांच जमीनों के कागजात, बैंक में एक दर्जन लॉकर व प्राइवेट फर्मों में थी पार्टनरशिप 28 सदस्यीय टीम ने की छापेमारी आय अधिक सम्पति  के मामले में लोकायुक्त की 28 सदस्यीय टीम छापेमारी करने पहुंची थी। जिसके कारण उपयंत्री श्री तिवारी के आवास के बाहर से लेकर अंदर तक भारी संया में पुलिस देख आसपास के लोग दंग रह गए। लोकायुक्त की टीम में पुलिस अधीक्षक अनिल विश्वकर्मा के अलावा एडीएसपी संतोष भदौरिया, डीएसपी एच पी चौधरी, निरीक्षक स्वप्निल दास सहित कई अधिकारी शामिल थे। . जबलपुर नगर निगम टैक्स कलेक्टर दो हजार रुपए की रिश्वत लेते गिरतार लोकायुत डीएसपी दिलीप झरबड़े के नेतृत्व में लोकायुत की टीम ने एक शिकायत पर दोपहर में जबलपुर नगर निगम के कर संग्राहक कार्यालय में दबिश देकर दो हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए टीसी अजमेर ङ्क्षसह तेकाम को रंगे हाथों दबोचा है। श्री झरबड़े ने बताया कि चांदमारी लालमाटी निवासी रोहित करोसिया ने शिकायत की थी कि टैस फिसेशन के लिए उसने 12 हजार रुपए दिए थे। जिस पर उसे सिर्फ नौ हजार 500 रुपए की रसीद दी गई थी। इसके बाद उससे अलग से रिश्वत की मांग की जा रही थी। इस पर शुक्रवार को योजनाबद्ध तरीके से लोकायुक्त  टीम ने आरोपी तेकाम को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों दबोचकर प्रकरण दर्ज किया।