रिश्वत लेना पड़ा भारी, नौकरी गंवाने के साथ मिली एस आई को मिली तीन साल की सजा

छिंदवाड़ा । जिले के बिछुआ थाने में 2014 में पदस्थ थाना प्रभारी एसआई द्वारा आरोपी को जमानत देने के नाम पर 1 हजार रुपए की रिश्वत मांगी गई थी। इस मामले में लोकायुक्त पुलिस द्वारा रंगे हाथ एसआई को रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया था। इस मामले में विभाग द्वारा एसआई को निलंबित कर दिया गया था। वहीं मामले के सुनवाई न्यायलय में चल रही थी। सुनवाई के दौरान कुछ दिन पहले आए फैसले में आरोपी एसआई को दंडित किया गया। इसके बाद शुक्रवार को डीआईजी ने कार्रवाई करते हुए एसआई को विभाग से सेवा से बर्खास्त कर दिया।

जिले के बिछुआ थाने में एसआई विजय पटेल को थाना प्रभारी के रूप में पदस्थ किया गया था। थाने में पदस्थ रहते हुए एसआई विजय पटेल ने एक मामले में जमानत के नाम पर एसआई पटेल ने 1 हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी। जिसके चलते लोकायुक्त पुलिस ने तत्काल ही 2014 में एसआई विजय पटेल को रंगे हाथ रिश्वत लेते हुए पकड़ा था। रिवश्त लेते पकड़ाएं एसआई के खिलाफ भष्टाचार अधिनियम का अपराध कायम कर जांच शुरू कर दी। जांच के चलते मामले को सुनवाई के लिए न्यायलय में पेश किया गया। जहां चली सुनवाई के दौरान विशेष न्यायाधीश मनोज कुमार श्रीवास्तव ने साक्षों के आधार पर एसआई विजय पटेल को अलग-अलग धाराओं के तहत 3 एवं 2 वर्ष के कारावास सहित अर्थदंड की सजा कुछ दिनों पहले सुनाई। सजा सुनाए जाने के बाद शुक्रवार को छिंदवाड़ा रेंज के डीआईजी डा. जीके पाठक ने एसआई विजय पटेल को निलंबन अवधि के बाद अब सेवा से बर्खास्त कर दिया है।